==============================================================================

AVYAKT MURLI

09 / 01 / 96

=============================================================================

09-01-96   ओम शान्ति    अव्यक्त बापदादा    मधुबन

बालक सो मालिकपन के नशे में रहने के लिए मन का राजा बनो

आज विश्व के मालिक बाप अपने चारों ओर के मालिक सो बालक बच्चों को देख रहे हैं। बालक भी हो तो मालिक भी हो। विश्व के मालिक भविष्य में बनेंगे लेकिन बाप के सर्व खजानों के मालिक अभी हो। विश्व राज्य अधिकारी भविष्य में बनेंगे लेकिन स्वराज्य अधिकारी अभी हो। इसलिए बालक भी हो और मालिक भी हो। दोनों हो ना! बालकपन का नशा सदा रहता ही है। बापदादा ने देखा कि बालकपन का नशा चाहे इमर्ज रूप में, चाहे मर्ज रूप में मैजारिटी को रहता है। क्योंकि अगर याद में बैठते हो तो भी क्या याद रहता है? बाबा। तो बाबा ये सोचना वा कहना, बच्चा है तब बाबा कहते हैं। और जो सच्चे सेवाधारी हैं उनके मुख से बार-बार क्या निकलता है? बाबा ने ये कहा, बाबा ये कहते हैं। सारे दिन में चेक करो तो कितने बारी बाबा-बाबा शब्द सेवा में कहते रहते हो? लेकिन दो प्रकार से बाबा शब्द कहने वाले हैं। एक है दिल से बाबा कहने वाले और दूसरे हैं नॉलेज के दिमाग से कहने वाले। जो दिल से बाबा कहते हैं उनको सदा सहज दिल में बाबा द्वारा प्रत्यक्ष प्राप्ति खुशी और शक्ति मिलती है और जो सिर्फ दिमाग अच्छा होने के कारण नॉलेज के प्रमाण बाबा-बाबा शब्द कहते हैं उन्हों को उस समय बोलने में अपने को भी खुशी होती और सुनने वालों को भी उस समय तक खुशी होती, अच्छा लगता लेकिन सदाकाल के लिए दिल में खुशी और शक्ति दोनों हो, वो सदा नहीं रहती, कभी रहती, कभी नहीं, क्यों? दिल से बाबा नहीं कहा। तो बापदादा ने देखा कि बालकपन का निश्चय सभी को है, नशा कभी है, कभी नहीं है। बाबा के हैं - ये निश्चय, इसमें मैजारिटी ठीक हैं। बालक तो हो ही लेकिन सिर्फ बालक नहीं हो बालक सो मालिक हो। डबल है।

तो मालिकपन - एक स्वराज्य अधिकारी मालिक और दूसरा बाप के सर्व खज़ानों के मालिक, क्योंकि सर्व खजानों को अपना बनाते हो, मेरा वर्सा है, दाता बाप है लेकिन बाप ने दिया कि आप वर्से के मालिक हो। तो यह वर्सा सबको मिला है? किसको कम, किसको ज्यादा तो नहीं मिला है? सबको एक जैसा मिला है ना? या किसको एक करोड़ मिला है और किसको 10 करोड़, ऐसे तो नहीं है ना? क्योंकि बाप के खज़ाने बेहद के हैं। कितने भी बच्चे हो लेकिन बाप के खज़ाने कम होने वाले नहीं हैं। खुला और सम्पन्न भण्डार है। इसलिए बाप किसको कम क्यों देवें! जब है ही बच्चों के लिए तो किसको ज्यादा, किसको कम क्यों दें! तो एक बाप के वर्से के अधिकारी मालिक और दूसरा स्वराज्य के मालिक। तो स्वराज्य मिला है? दोनों के मालिक हो? पक्का है ना? तो मालिक होकर कितना समय चलते हो? कहते भी हो कि स्वराज्य हमारा बर्थ राइट है। कहते हो ना या महारथियों का बर्थ राइट है, हमारा थोड़ा है? स्वराज्य का अधिकार सभी को मिला है कि थोड़ा-थोड़ा मिला है? इस पर पूरा पक्का रहना। तो चेक करो कि स्व की सर्व कर्मेन्द्रियाँ आर्डर प्रमाण हैं? कर्मेन्द्रियाँ, आप स्वराज्य अधिकारी बच्चों के कर्मचारी हैं ना? मालिक तो नहीं हैं? आप मालिक हो, ये ठीक है? कि कर्मचारी मालिक हैं और आप कर्मचारी बन जाते हो?

तो बापदादा ने देखा कि बच्चों की स्थिति में सबसे ज्यादा जो मालिकपन भुलाने वाला है वा समय प्रति समय राजा से अपने वश में करने वाला है - वो है मन। इसलिए बाप का मन्त्र भी है मन्मनाभव। तन-मनाभव, धन-मनाभव या बुद्धि-मनाभव नहीं है। मन्मनाभव है। तो मन अपना प्रभाव डाल देता है। मन के वश में आ जाते हैं। देखो कोई भी छोटी सी व्यर्थ बात वा व्यर्थ वातावरण वा व्यर्थ दृश्य सबका प्रभाव पहले किस पर पड़ता है? मन पर प्रभाव पड़ता है ना, फिर बुद्धि उसको सहयोग देती है। मन और बुद्धि अगर उसी प्रकार चलती रहती तो संस्कार बन जाता है। अभी भी अपने को चेक करो तो मेरा जो व्यर्थ संस्कार है वो बना कैसे? मानो किसी का संस्कार छोटी सी बात में सेकण्ड में, मन में फीलिंग आने का बन गया है तो ये संस्कार बना कैसे? फिर कहते हैं चाहते नहीं हैं, सोचते भी हैं लेकिन हो जाता है। इसको कहा जाता है संस्कारवश। कोई का थोड़े टाइम में मन मायूस हो जाता, थोड़ा सा देखा, सुना और मन मायूस हो गया। फिर अगर कोई पूछेगा तो क्या कहेंगे? कहेंगे, नहीं कोई बात नहीं, ये मेरे संस्कार हैं। ठीक हो जायेगा, संस्कार हैं। लेकिन बना कैसे? मन और बुद्धि के आधार से संस्कार बन गया। फिर भिन्न-भिन्न संस्कार हैं जो ब्राह्मण संस्कार नहीं हैं। बापदादा तो सोचते हैं कि कहलाने में तो किसी से भी पूछेंगे कि आप कौन हो? तो क्या कहेंगे? ब्रह्माकुमारी या ब्रह्माकुमार हैं। तो ब्रह्मा के बच्चे क्या हुए? ब्राह्मण। लेकिन जब व्यर्थ संस्कार के वश हो जाते हो तो क्या उस समय ब्रह्माकुमार, ब्राह्मण हो या क्षत्रिय हो? उस समय कौन हो? यदि अपने से युद्ध करते हो - ये नहीं, ये नहीं... तो ब्राह्मण हो या क्षत्रिय हो? कई बच्चे कहते हैं दो दिन से मेरे मन में खुशी गुम हो गई, पता नहीं क्यों? वैसै तो अन्दर समझते हैं लेकिन बाहर से कहते हैं पता नहीं क्यों! लेकिन वो दिन ब्राह्मण हैं या क्षत्रिय हैं? जिसकी खुशी गुम हो जाये तो ब्राह्मण हैं? तो क्या कभी क्षत्रिय बनते हो, कभी ब्राह्मण बनते हो? सभी ने कहा ना मालिक हैं, लेकिन उस समय क्या हैं? मालिक हैं या परवश हैं?

तो बापदादा ने देखा कि मालिकपन को हिलाने वाला विशेष मन है। और आप स्वराज्य अधिकारी राजा हो, मन आपका मन्त्री है। वा मन मालिक है, आप मन्त्री हो? आप राजा हो ना, मन तो राजा नहीं है? मन्त्री है, सहयोगी है। तो मन का मालिकपन - ये सदा हो तब कहेंगे कि स्वराज्य अधिकारी। नहीं तो कभी अधिकारी, कभी अधीन। इसका कारण क्या है? क्यों नहीं परिवर्तन होता? जब समझते भी हो फिर भी संस्कार के वश हो जाते हो। इसलिए पहले मन को कन्ट्रोल करो। कहते हो राजा हैं लेकिन राजा का अर्थ है जिसमें रूलिंग पॉवर हो। अगर नाम राजा हो और रूलिंग पॉवर नहीं तो उसका क्या हाल होगा? उसका राज्य चलेगा? नहीं चलेगा। तो रूलिंग पॉवर कितने परसेन्टेज में आई है - ये चेक करो।

एक ग़लती बहुत करते हो उसके कारण भी संस्कार के ऊपर विजय नहीं प्राप्त कर सकते, बहुत टाइम लगता है समझते हैं कल से नहीं करेंगे लेकिन जब कल होता है तो आज से कल की बात बड़ी हो जाती है। तो कहते हैं कल छोटी बात थी ना आज तो बहुत बड़ी बात थी। तो बड़ी बात होने के कारण थोड़ा हो गया, फिर ठीक कर लेंगे-ये बड़ों को वा अपने दिल को दिलासा देते हो और ये दिलासा देते हुए चलते हो लेकिन ये दिलासा नहीं है, ये धोखा है। उस समय थोड़े समय के लिए अपने को या दूसरों को दिलासा देना-बस अभी ठीक हो जायेंगे, लेकिन ये स्वयं को धोखा देने की आदत पक्की करते जाते चलते-फिरते फरिश्ता स्वरूप में रहना-यही ब्रह्मा बाप की दिल-पसन्द गिफ्ट है। 99 हो। जो उस समय पता नहीं पड़ता लेकिन जब प्रैक्टिकल में धोखा मिलता है तभी समझते हैं कि हाँ ये धोखा ही है। तो भूल क्या करते हो? जब बड़े या छोटे एक-दो को शिक्षा देते हैं तो क्या कहते हो? ये मेरा स्वभाव है, मेरा संस्कार है, कोई का फीलिंग का, कोई का किनारा करने का, कोई का बार-बार परचिन्तन करने का, कोई का परचिन्तन सुनने का, भिन्न-भिन्न हैं, उसको तो आप बाप से भी ज्यादा जानते हो। लेकिन बापदादा कहते हैं कि जिसको आपने मेरा संस्कार कहा वो मेरा है? किसका है? (रावण का) तो मेरा क्यों कहा? ये तो कभी नहीं कहते हो कि ये रावण के संस्कार हैं। कहते हो मेरे संस्कार हैं। तो ये मेरा शब्द - यही पुरूषार्थ में ढीला करता है। ये रावण की चीज़ अन्दर छिपाकर क्यों रखी है? लोग तो रावण को मारने के बाद जलाते हैं, जलाने के बाद जो भी कुछ बचता है वो भी पानी में डाल देते हैं, और आपने मेरा बनाकर रख दिया है! तो जहाँ रावण की चीज़ होगी वहाँ अशुद्ध के साथ शुद्ध संस्कार इकट्ठे रहेंगे क्या? और राज्य किसका है? अशुद्ध का। शुद्ध का तो नहीं है ना! तो राज्य है अशुद्ध का और अशुद्ध चीज़ अपने पास सम्भाल कर रख दी है। जैसे सोना या हीरा सम्भाल के रखा हो। इसलिए अशुद्ध और शुद्ध दोनों की युद्ध चलती रहती है तो बार-बार ब्राह्मण से क्षत्रिय बन जाते हैं। मेरा संस्कार क्या है? जो बाप का संस्कार है, विशेष है ही विश्व कल्याणकारी, शुभ चिन्तनधारी। सबके शुभ भावना, शुभ कामनाधारी। ये हैं ओरिजनल मेरे संस्कार। बाकी मेरे नहीं हैं। और यही अशुद्धि जो अन्दर छिपी हुई है ना, वो सम्पूर्ण शुद्ध बनने में विघ्न डालती है। तो जो बनना चाहते हो, लक्ष्य रखते हो लेकिन प्रैक्टिकल में फर्क पड़ जाता है।

मैजॉरिटी ने सोचा है, कइयों ने तो अपना संकल्प किया भी, लिखा भी कि इस डायमण्ड जुबली में बाप समान डायमण्ड बनना ही है। ये संकल्प है या सोचना है? सोचना हो तो सोच लो! लेकिन नम्बर पीछे मिलेगा। कहावत भी है कि जो करेगा वो पायेगा। ये तो नहीं है ना कि जो सोचेगा वो पायेगा! तो संकल्प बहुत अच्छा करते हो। बापदादा भी पढ़ करके, सुन करके खुश होते हैं लेकिन ये रावण की चीज़ जो छिपाकर रखी है ना वो मन का मालिक बनने नहीं देती। मेरी आदत है, मेरा स्वभाव है, मेरा संस्कार है, मेरी नेचर है-ये सब रावण की जायदाद साथ में, दिल में रख दी है, तो दिलाराम कहाँ बैठेगा! रावण के वर्से के ऊपर बैठे क्या! तो अभी इसको मिटाओ। जब मेरा शब्द बोलते हो तो याद करो-मेरा स्वभाव या मेरी नेचर क्या है? और मन को दुनिया वाले भी कहते हैं ये घोड़ा है, बहुत भागता है और तेज भागता है लेकिन आपका मन भागना चाहिये? आपको श्रीमत का लगाम मज़बूत है। अगर लगाम ठीक है तो कुछ भी हलचल नहीं हो सकती। लेकिन करते क्या हो? बापदादा तो देखते रहते हैं ना तो हंसी भी आती है, जैसे सवारी को चला रहे हो, लगाम हाथ में है लेकिन अगर चलते-चलते लगाम पकड़ने वाले की बुद्धि या मन कोई साइटसीन के तरफ लग गई तो क्या होगा? लगाम ढीला होगा! और लगाम ढीला होने से मन चंचलता जरूर करेगा। तो श्रीमत का लगाम सदा अपने अन्दर स्मृति में रखो। जब भी कोई बात हो, मन चंचल हो तो श्रीमत का लगाम टाइट करो। फिर कुछ नहीं होगा। फिर मंज़िल पर पहुँच जायेंगे। तो श्रीमत हर कदम के लिए है, श्रीमत सिर्फ ब्रह्मचारी बनो ये नहीं है। हर कर्म के लिये श्रीमत है। चलना, खाना, पीना, सुनना, सुनाना - सबकी श्रीमत है। है, कि नहीं है? मानो आप परचिन्तन कर रहे हो तो क्या ये श्रीमत है? श्रीमत को ढीला किया तो मन को चांस मिलता है चंचल बनने का। फिर उसको आदत पड़ जाती है। तो आदत डालने वाला कौन? आप ही हो ना! तो पहले मन का राजा बनो। चेक करो - अन्दर ही अन्दर ये मन्त्री अपना राज्य तो नहीं स्थापन कर रहे हैं? जैसे आजकल के राज्य में अलग ग्रुप बना करके और पॉवर में आ जाते हैं। और पहले वालों को हिलाने की कोशिश करते हैं तो ये मन भी ऐसे करता है, बुद्धि को भी अपना बना लेता है। मुख को, कान को, सबको अपना बना लेता है। तो रोज़ चेक करो, समाचार पूछो-हे मन मन्त्री तुमने क्या किया? कहाँ धोखा तो नहीं दिया? कहाँ अन्दर ही अन्दर ग्रुप बना देवे और आपको राजा की बजाय गुलाम बना दे! तो ऐसा न हो। देखो ब्रह्मा बाप आदि में रोज़ ये दरबार लगाते थे जिसमें सभी सहयोगी साथियों से समाचार पूछते, ये रोज़ की ब्रह्मा बाप की आदि की दिनचर्या है। सुना है ना? तो ब्रह्मा बाप ने भी मेहनत की है ना! अटेन्शन रखा तब स्वराज्य अधिकारी सो विश्व के राज्य अधिकारी बने। शिव बाप तो है ही निराकार लेकिन ब्रह्मा बापने तो आपके समान सारी जीवन पुरूषार्थ से प्रालब्ध प्राप्त की। तो ब्रह्मा बाप को फॉलो करो। ये मन बहुत चंचल है और बहुत क्वीक है, एक सेकण्ड में आपको सारा फॉरेन घुमाकर आ सकता है। तो क्या सुना? बालक सो मालिक। ऐसे नहीं खुश रहना-बालक तो बन गये, वर्सा तो मिल गया लेकिन अगर वर्से के मालिक नहीं बने तो बालकपन क्या हुआ? बालक का अर्थ ही है मालिक। लेकिन स्वराज्य के भी मालिक बनो। सिर्फ वर्से को देख करके खुश नहीं हो, स्वराज्य अधिकारी बनो। इतनी छोटी सी आंख बिन्दी है, वो भी धोखा दे देती है। तो मालिक नहीं हुए तभी धोखा देती है। तो बापदादा सभी बच्चों को स्वराज्य अधिकारी राजा देखना चाहते हैं। अधिकारी, अधीन नहीं रहेगा। समझा? क्या बनेंगे? बालक सो मालिक। रावण की चीज़ को तो यहाँ हाल में ही छोड़कर जाना। ये तपस्या का स्थान है ना। तो तपस्या को अग्नि कहा जाता है। तो अग्नि में खत्म हो जायेगा।

बापदादा ने देखा कि बच्चों का रावण से अभी भी प्यार है। दिल से चाहते नहीं हैं लेकिन रह गया है। अभी इसको खत्म करो। टीचर्स क्या करेंगी? यहीं छोड़कर जायेंगी या ट्रेन में फेकेंगी? क्योंकि 63 जन्मों की पुरानी चीज है तो थोड़ी तो प्रीत है। पाण्डव क्या करेंगे? यहीं छोड़ कर जायेंगे या नीचे आबूरोड पर छोड़ेंगे? यहीं छोड़कर जाना। छोड़ने के लिये तैयार हो? ढीलाढाला हाँ कर रहे हो। बापदादा रोज़ कोई न कोई बच्चों की बातें चेक करता है। आप भी चेक करेंगे तब तो चेंज होंगे ना!

अच्छा, ये चांस तो एक्स्ट्रा चांस मिला है। ये भी नयों को या पुरानों को अचानक की लॉटरी मिली है। तो अचानक की लॉटरी का महत्व होता है। तो इस लॉटरी को सदा प्रैक्टिकल कर्म में लाते हुए बढ़ाते रहना। जितना स्वयं प्रति या औरों प्रति कार्य में लगायेंगे उतना बढ़ता रहेगा। तो बढ़ाते रहना ये लॉटरी का दिन भूलना नहीं। याद रखना।

कुमारियों से

कुमारियाँ क्या करेंगी? कुमारी का अर्थ ही है कमाल करने वाली। तो कमाल करनी है। क्या कमाल करेंगी? बापदादा सदा जब भी कुमारियों को देखते हैं तो उसी नज़र से देखते हैं कि ये कमाल करने वाली कुमारी है। चाहे कुमारी अपना क्या भी करे लेकिन बापदादा हर कुमारी में कमाल करने वाली शुभ भावना, शुभ कामना रखते हैं। तो कुमारियाँ क्या करेंगी? क्योंकि कुमारियाँ बहुत बन्धनों से फ्री हैं। अगर कुमारी पुरूषार्थ में अच्छी है तो उसको सेन्टर मिल जाता है। एक तो सेन्टर की सेवाधारी का भाग्य मिलता है और सेन्टर पर अकेले नहीं लेकिन साथी भी मिल जाते हैं। कुमारों को तो अकेला-अकेला खाना बनाना पड़ता है और कुमारियों को चाहे टर्न-बाई-टर्न बनाओ लेकिन एक-दो में मददगार तो होते हैं ना! और दूसरा कमाने की कोई चिन्ता नहीं। अगर कोई कुमार आपके पास (दादी के पास) जाता है तो आप नौकरी छुड़ायेंगी? कहेंगे नौकरी करो। तो कुमारियों का तो लक है, कहते हैं नौकरी छोड़कर आ जाओ। खुद कुमारी का लगाव होता है पढ़ने में या नौकरी में। तो ये तो उसका भाग्य हुआ। लेकिन कुमारियों को चांस तो अच्छा है। और फिर सेवा का चांस कितना मिलता है? जितना करना चाहो उतना कर सकते हो।

ब्रह्मा बाप पुराने बच्चों के प्रति ये बोल रहे हैं कि अगर कोई कहता है कि सेवा है ही नहीं, बहुत करते हैं लेकिन सेवा दिखाई नहीं देती है, कोई सेवा के लिए मिलता नहीं है तो ब्रह्मा बाप क्या कहता था कि जंगल पड़ा हुआ है और शिकारी कहे कि शिकार नहीं मिलता, ये हो सकता है! शिकारी को परखने की शक्ति नहीं है, देखने की वो जो तेज़ आंख चाहिये, वो नहीं है। बाकी जंगल में शिकार न हो ये हो ही नहीं सकता। कितनी संख्या बढ़ रही है। चाहे छोटा गांव है, चाहे बड़ा शहर है सब जगह संख्या बढ़ रही है। तो संख्या बढ़ रही है और सेवा नहीं हो ये कैसे हो सकता है! करने की विधि नहीं आती। तो कुमारियों को अपने आपको निर्बन्धन बनाने की विशेष सेवा करनी है। पहले अपने को निर्बन्धन बनाओ। क्या है कुमारियाँ डरती हैं सेन्टर पर रहने से और कुमार चाहते हैं सेन्टर पर रहना। कारण क्या है? कमज़ोर आत्मायें हैं, नम्बरवार तो होना ही है ना। तो कमजोर आत्माओं की कमजोरी को देख घबरा जाते हैं। अच्छों को नहीं देखते, जो कमजोर है, उसको फॉलो करते हैं। इसीलिए बापदादा ने कहा भी है-सी फादर-मदर। फॉलो फादर-मदर। न कि कमज़ोर को फॉलो करो। तो कुमारियों को तो दिल में उछल आनी चाहिये। कि बस, सेवा करें और सेवा के सफलता का सितारा बनें, कमज़ोर नहीं।

कुमारों से

कुमारों को भी चांस मिलेगा। जब सेवा बहुत बढ़ेगी, इतनी सब आत्माओं को सन्देश देना है तो क्या थोड़ी सी आत्मायें कर सकेंगी! तो आप लोगों को चांस मिलेगा लेकिन आप लोग ऐसे पहले से तैयार हो जाओ। जो टीचर्स को सप्ताह कोर्स कराना पड़ता है और आप एक सेकण्ड में अपनी दृष्टि-वृत्ति द्वारा परिचय दे सको। ऐसी सेवा कुमारों को करनी है। अभी देखो बापदादा स्पष्ट सुनाता है कि कुमारों को सेन्टर पर क्यों नहीं रखते हैं? कारण क्या है? डर लगता है दादियों को। और कभी-कभी प्रैक्टिकल में नुकसान होते भी हैं। ऐसे ही डर नहीं लगता, होता भी है। अगर कुमार पक्के योगी बन जायें, ज़रा भी सिवाए आत्मा के और कोई बात में जायें नहीं तो कुमारों को बहुत सेवाकेन्द्र मिल सकते हैं। अभी नुकसान का डर है। क्योंकि रावण की चीज़ अन्दर रखी है ना, इसलिए डर लगता है। लेकिन जो कुमारियों ने इतने वर्ष में सेवा की, कुमार फास्ट सेवा करेंगे। चांस बहुत अच्छा मिलना है लेकिन पहले तैयार हो जाओ। पहले दादियों को बेफिक्र बनाओ। जहाँ कुमार-कुमारियाँ इकट्ठे रहते हैं ना तो डर लगता है, फॉरेन की बात अलग है, वहाँ तो फीमेल भी मेल है, मेल भी फीमेल हैं। वहाँ की बात अलग है। लेकिन भारत में अगर दो-तीन भाई सेन्टर चलायें तो पहले तो लोग डिस्कस करने के सिवाए और कुछ नहीं करेंगे। और जोश होता है ना तो डण्डा भी लग सकता है। इसलिए आप तैयार हो जाओ, आपको सेवा बहुत मिलनी है और जितना कुमारियों को सेवा का चांस है, ऐसे अगर आप पक्के योगी बन गये तो थोड़े समय में आपका खाता भी उतना ही जमा हो सकता है। लेकिन बापदादा को दिल से गैरेन्टी दिलाओ, कागज वाला बापदादा नहीं मानते। आज कागज पर पानी और स्याही से नहीं, खून से भी लिखकर देते हैं और एक मास के बाद कुमार से युगल बनकर आते हैं। तो ऐसी गैरेन्टी नहीं चाहिये। लेकिन डायमण्ड जुबली में बापदादा ने देखा कि कुमार बहुत अच्छा सबसे नम्बरवन पुरूषार्थ कर रहे हैं तो कुमार समय को भी समीप ला सकते हैं। समय समीप आ जायेगा और आपकी सेवा होती जायेगी। लेकिन बापदादा रोज़ वतन में चेक करते हैं ऐसे ही नहीं कोई यहाँ कहेगा तो मान लेंगे। प्रैक्टिकल बाप चेक करेगा। फिर देखो कुमार फर्स्ट नम्बर ले सकते हैं। समझा? सन्देश देने में तो कुमार वैसे ही होशियार हो और देखो जिस सेन्टर पर कुमार नहीं आते हैं तो वहाँ सेवा की वृद्धि नहीं होती है। ऐसे है ना टीचर्स? टीचर्स कहती हैं सेवा के लिए किसको भेंजे! तो कुमार अभी भी सेवा कर रहे हैं लेकिन सिर्फ ये पक्का निश्चय कर लो कि हम हैं ही योगी आत्मायें। सदा योगी हैं। शरीर के तरफ स्वप्न मात्र भी संकल्प नहीं जाये। तो कुमार कमाल करना, बापदादा 56 चेक करके ग्रुप बनायेगा। अच्छा!

प्रवृत्ति वालों से

प्रवृत्ति वालों से बापदादा को एक शुभ आशा है जो अभी तक प्रवृत्ति वालों ने पूरी नहीं की है। वो क्या है? सेवा में मातायें बहुत चाहिये और जहाँ माता है वहाँ दादियाँ भी निरसंकल्प हो जाती हैं। लेकिन प्रवृत्ति वाली मातायें निकलती बहुत कम हैं। जैसे कुमारियों की ट्रेनिंग रखते हैं ऐसे माताओं को 15 दिन की ट्रेनिंग देकर के एक मास, दो मास, तीन मास सेवा की ट्रायल करो, चाहे भारत के किसी भी देश में मातायें जो हैं वो अपने को फ्री करें, दो मास, चार मास, छह मास किसी भी ढंग से मातायें सेवा में आगे आयें तो सेवा बहुत कर सकती हैं। अभी निमन्त्रण होते हुए भी सेन्टर नहीं खुलते हैं। कारण? अकेली छोटी-छोटी कुमारी समय प्रमाण नहीं रख सकते। और माता हो तो एक मास में आप देखो कितने सेन्टर खुल जाते हैं। तो माताओं में ये हिम्मत नहीं है। किसको पोत्रा, किसको धोत्रा, किसको पति, कोई न कोई बन्धन है। माताओं में जोश आना चाहिये। प्रवृत्ति को सम्भालें लेकिन एक-दो में साथी बन करके, एक-दो के मददगार बनके पहले दो मास, तीन मास निकलो फिर सेवा का रस बैठ जायेगा तो आपको आप ही निर्बन्धन करेगा। तो प्रवृत्ति वाले पाण्डव माताओं के किसी भी ढंग से मददगार बन माताओं को सेवा के लिए स्वतन्त्र करो। लेकिन अभी तक यह आश बाप की प्रवृत्ति वालों ने पूरी नहीं की। डायमण्ड जुबली में करना। समझा प्रवृत्ति वालों ने। अच्छा!

डबल विदेशियों से

देखो डबल विदेशियों को फुल सीज़न में आने का चांस है, कोई भी ग्रुप ऐसा नहीं है जिसमें डबल विदेशी न हो। तो ये एक्स्ट्रा डबल विदेशियों को चांस मिला हुआ है। इस सीज़न में आना अच्छा लगता है? इण्डियन सीज़न में आने में मज़ा आता है? क्योंकि देखो विदेश को वैसे भी भारत देश में समा ही जाना है। सतयुग में अमेरिका और लण्डन नहीं होगा। भारत में ही समा जायेंगे। विश्व एक हो जायेगी। डबल विदेश और भारत ये अलग नहीं होगा। इस्ट और वेस्ट दोनों मिलकर एक विश्व हो जायेगा। तो पीछे तो आना ही है इसलिए अभी से अपना हक रख देते हैं। अच्छा। भारत वालों को भी खुशी होती है और आप लोगों को भी खुशी होती है। दोनों को खुशी होती है। बाकी विदेश में भी जो चारों ओर सेवा चल रही है तो समाचार तो आते रहते हैं तो रिज़ल्ट में चारों ओर उमंग-उत्साह अच्छा है और रिज़ल्ट भी अच्छी है। अभी कुछ तरफ की रिज़ल्ट में क्लास में स्टूडेन्ट बढ़े हैं तो ये सेवा की सफलता है। समझा? जिन्हों ने भी सेवा के पत्र या अपने अवस्था के पत्र, डायमण्ड जुबली के उमंग-उत्साह के पत्र भेजे हैं उन सभी को बापदादा रिटर्न में पद्मगुणा से भी ज्यादा याद-प्यार दे रहे हैं। विदेश में भी अभी स्टूडेन्ट बढ़ रहे हैं ना! विदेश के चारों ओर से आये हैं। और इस वर्ष देश-विदेश दोनों मिलकर प्रोग्राम कर रहे हैं ये बहुत अच्छा है। और ऐसे ही सदा मिलकर एक राय से आगे बढ़ते रहेंगे।

(फिर बापदादा ने सभी ज़ोन के भाई-बहिनों से अलग-अलग हाथ उठवाकर मिलन मनाया। दिल्ली में डायमण्ड जुबली के उपलक्ष्य में निकाली गई झांकियों का समाचार बापदादा ने सुना)

अच्छा है दिल्ली का समाचार भी सुना तो डायमण्ड जुबली की जो शुरूवात है वो बहुत अच्छी हुई। तो अच्छा ही किया, दिल्ली वालों ने चतुराई की कि पहले करेंगे तो दादियाँ मिलेंगी और साथ में करेंगे तो दादियाँ नहीं मिलेंगी। चतुराई अच्छी की। और दिल्ली तो आप सबकी है ना! राज्य दिल्ली पर करेंगे या लण्डन में? दिल्ली सबकी है। कितने बार दिल्ली में राज्य किया है? अनगिनत बार। तो आपकी हो गई ना! इसीलिए स्थापना की सेवा भी दिल्ली में जमुनाघाट पर हुई। राज्य भी जमुनाघाट पर करना है तो आरम्भ भी जमुनाघाट से हुआ। मेहनत की लेकिन राज्य का छाप तो लगा दिया ना। तो अच्छा है, और भी सब तरफ के भी प्रोग्राम अच्छे बनाये हैं, अभी प्रैक्टिकल होंगे तो बहुत अच्छा। जो अभी प्लैन बना रहे हैं तो अच्छे ते अच्छा बना रहे हैं और सफलता तो होनी ही है।

अच्छा, पीछे वाले अच्छे बैठे हैं? बापदादा तो ज्यादा पीछे ही देखते हैं। क्योंकि पीछे अगर देखते हैं ना तो आगे आपेही आ जाते हैं। अच्छा।

चारों ओर के बालक सो मालिक डबल अधिकार लेने वाले श्रेष्ठ आत्मायें, सदा स्वराज्य अधिकारी बन अपना राज्य चलाने वाले भाग्यवान आत्मायें, सदा बाप के संस्कार सो मेरे संस्कार इस विधि से सेवा में आगे बढ़ने वाले श्रेष्ठ सेवाधारी आत्माओं को बापदादा का याद प्यार और नमस्ते।

दादियों से

जितनी ज़िम्मेवारियाँ बढ़ती हैं उतना ही एक्स्ट्रा दुआएं और बाप का प्यार बढ़ता जाता है ना! लेकिन ज़िम्मेवारियाँ हैं, बाप के हिसाब से बहुत हैं। आपकी मददगार तो बाप की भुजायें हैं ही। फिर भी ज़िम्मेवारियाँ हैं और रहनी है। बहुत ज़िम्मेवारियाँ है ना! आप लोग क्या समझते हो? एक के ऊपर बहुत जिम्मेवारियाँ है ना! बहुत जिम्मेवारी है ना! (ज़िम्मेवारी तो बाबा आपकी है इशारा मिलता हम सब करते हैं) ये तो अच्छी बात है आप डबल लाइट हैं और डबल लाइट होने के कारण आपको लगती नहीं हैं। ये एक्स्ट्रा बाप और माँ दोनों की अन्दर की मदद है। क्योंकि मात-पिता जगदम्बा और ब्रह्मा बाप दोनों की जिम्मेवारियाँ स्थूल में आपके ऊपर हैं। सूक्ष्म में तो साथ है लेकिन बाहर से तो निमित्त आप हैं। इसीलिए आपसे सभी का शुद्ध प्यार ज्यादा है। दादियों का भी है, विश्व का भी है।

अच्छा। ओम् शान्ति।     

 

=============================================================================

QUIZ QUESTIONS

============================================================================

 

 प्रश्न 1 :- सतयुग में विदेश की भोगौलिक रचना कैसी होगी ?

 

 प्रश्न 2 :-  मन के प्रभाव में आने से कैसी परिस्थितियां उत्पन्न हो जाती है ?

 

 प्रश्न 3 :- अपने संस्कारों पर विजय न पाने का कारण क्या है ?

 

 प्रश्न 4 :-  कौन सी लगाम टाइट करने से सब ठीक रहेगा ?

 

 प्रश्न 5 :- कुमारियों प्रति बापदादा ने क्या कहा ?

 

       FILL IN THE BLANKS:-    

 

(भविष्य, सर्व, स्वराज्य, संस्कार, ढीला, चीज़, सम्भाल, युद्ध, कल्याणकारी, चिन्तनधारी, छिपी, शुद्ध)

 

1           विश्व के मालिक _______ में बनेंगे लेकिन बाप के ______ खजानों के मालिक अभी हो। विश्व राज्य अधिकारी भविष्य में बनेंगे लेकिन ______ अधिकारी अभी हो।

 

2           ये तो कभी नहीं कहते हो कि ये रावण के _______ हैं। कहते हो मेरे संस्कार हैं। तो ये मेरा शब्द - यही पुरूषार्थ में ______ करता है।

 

3           तो राज्य है अशुद्ध का और अशुद्ध ______ अपने पास सम्भाल कर रख दी है। जैसे सोना या हीरा ______ के रखा हो। इसलिए अशुद्ध और शुद्ध दोनों की _______ चलती रहती है तो बार-बार ब्राह्मण से क्षत्रिय बन जाते हैं।

 

4           जो बाप का संस्कार है, विशेष है ही विश्व ________, शुभ ________। सबके शुभ भावना, शुभ कामनाधारी। ये हैं ओरिजनल मेरे संस्कार।

 

 5  यही अशुद्धि जो अन्दर _______ हुई है ना, वो सम्पूर्ण ______ बनने में विघ्न डालती है। तो जो बनना चाहते हो, लक्ष्य रखते हो लेकिन प्रैक्टिकल में फर्क पड़ जाता है।

 

सही गलत वाक्यो को चिन्हित करे:-】【

 

1      :- जो सच्चे सेवाधारी हैं उनके मुख से बार-बार क्या निकलता है? बाबा ने ये कहा, बाबा ये कहते हैं।

 

2      :- दो प्रकार से बाबा शब्द कहने वाले हैं। एक है जुबान से बाबा कहने वाले और दूसरे हैं नॉलेज के दिमाग से कहने वाले।

 

3      :- कहते हो राजा हैं लेकिन राजा का अर्थ है जिसमें कंट्रोल्लिंग पॉवर हो।

 

4      :- मन का मालिकपन - ये सदा हो तब कहेंगे कि स्वराज्य अधिकारी। नहीं तो कभी अधिकारी, कभी अधीन।

 

 5   :-  लोग तो रावण को मारने के बाद जलाते हैं, जलाने के बाद जो भी कुछ बचता है वो भी पानी में डाल देते हैं, और आपने मेरा बनाकर रख दिया है!

 

============================================================================

QUIZ ANSWERS

============================================================================

 

 प्रश्न 1 :- सतयुग में विदेश की भोगौलिक रचना कैसी होगी ?

   उत्तर 1 :- विदेश को वैसे भी भारत देश में समा ही जाना है। सतयुग में अमेरिका और लण्डन नहीं होगा। भारत में ही समा जायेंगे। विश्व एक हो जायेगी। डबल विदेश और भारत ये अलग नहीं होगा। इस्ट और वेस्ट दोनों मिलकर एक विश्व हो जायेगा।

 

 प्रश्न 2 :- मन के प्रभाव में आने से कैसी परिस्थितियां उत्पन्न हो जाती है ?

 उत्तर 2 :- बापदादा ने देखा :-

          .. बच्चों की स्थिति में सबसे ज्यादा जो मालिकपन भुलाने वाला है वा समय प्रति समय राजा से अपने वश में करने वाला है - वो है मन।

          .. बाप का मन्त्र भी है मन्मनाभव। तन-मनाभव, धन-मनाभव या बुद्धि-मनाभव नहीं है। मन्मनाभव है।

         .. कोई भी छोटी सी व्यर्थ बात वा व्यर्थ वातावरण वा व्यर्थ दृश्य सबका प्रभाव मन पर प्रभाव पड़ता है ना, फिर बुद्धि उसको सहयोग देती है।

          .. मन और बुद्धि अगर उसी प्रकार चलती रहती तो संस्कार बन जाता है।

         .. कोई का थोड़े टाइम में मन मायूस हो जाता, थोड़ा सा देखा, सुना और मन मायूस हो गया।

         .. मन और बुद्धि के आधार से संस्कार बन गया।

 

 प्रश्न 3 :- अपने संस्कारों पर विजय न पाने का कारण क्या है ?

   उत्तर 3 :- संस्कार पर विजय ने पाने का कारण है :-

          .. समझते हैं कल से नहीं करेंगे लेकिन जब कल होता है तो आज से कल की बात बड़ी हो जाती है।

           .. कहते हैं कल छोटी बात थी ना आज तो बहुत बड़ी बात थी। तो बड़ी बात होने के कारण थोड़ा हो गया, फिर ठीक कर लेंगे-ये बड़ों को वा अपने दिल को दिलासा देते हो और ये दिलासा देते हुए चलते हो लेकिन ये दिलासा नहीं है, ये धोखा है।

         .. थोड़े समय के लिए अपने को या दूसरों को दिलासा देना-बस अभी ठीक हो जायेंगे, लेकिन ये स्वयं को धोखा देने की आदत पक्की करते जाते।

         .. ये मेरा स्वभाव है, मेरा संस्कार है, कोई का फीलिंग का, कोई का किनारा करने का, कोई का बार-बार परचिन्तन करने का, कोई का परचिन्तन सुनने का, भिन्न-भिन्न है।

 

 प्रश्न 4 :- कौन सी लगाम टाइट करने से सब ठीक रहेगा ?

   उत्तर 4 :- बाबा ने कहा कि :-

          .. श्रीमत का लगाम मज़बूत है। अगर लगाम ठीक है तो कुछ भी हलचल नहीं हो सकती।

          .. श्रीमत का लगाम सदा अपने अन्दर स्मृति में रखो। जब भी कोई बात हो, मन चंचल हो तो श्रीमत का लगाम टाइट करो। फिर कुछ नहीं होगा। 

        .. श्रीमत हर कदम के लिए है, श्रीमत सिर्फ; ब्रह्मचारी बनो ये नहीं है। हर कर्म के लिये श्रीमत है। चलना, खाना, पीना, सुनना, सुनाना - सबकी श्रीमत है। श्रीमत को ढीला किया तो मन को चांस मिलता है चंचल बनने का। फिर उसको आदत पड़ जाती है।

 

 प्रश्न 5 :- कुमारियों प्रति बापदादा ने क्या कहा ?

   उत्तर 5 :- कुमारियों प्रति बापदादा ने कहा कि :-

          .. कुमारी का अर्थ ही है कमाल करने वाली। तो कमाल करनी है।

          .. बापदादा सदा जब भी कुमारियों को देखते हैं तो उसी नज़र से देखते हैं कि ये कमाल करने वाली कुमारी है। चाहे कुमारी अपना क्या भी करे लेकिन बापदादा हर कुमारी में कमाल करने वाली शुभ भावना, शुभ कामना रखते हैं।

          .. क्योंकि कुमारियाँ बहुत बन्धनों से फ्री हैं। अगर कुमारी पुरूषार्थ में अच्छी है तो उसको सेन्टर मिल जाता है। एक तो सेन्टर की सेवाधारी का भाग्य मिलता है और सेन्टर पर अकेले नहीं लेकिन साथी भी मिल जाते हैं।

         .. दूसरा कमाने की कोई चिन्ता नहीं। कुमारियों का तो लक है। खुद कुमारी का लगाव होता है पढ़ने में या नौकरी में।

          .. कुमारियों को अपने आपको निर्बन्धन बनाने की विशेष सेवा करनी है। पहले अपने को निर्बन्धन बनाओ। बापदादा ने कहा भी है-सी फादर-मदर। फॉलो फादर-मदर।

 

       FILL IN THE BLANKS:-    

 

(भविष्य, सर्व, स्वराज्य, संस्कार, ढीला, चीज़, सम्भाल, युद्ध, कल्याणकारी, चिन्तनधारी, छिपी, शुद्ध)

 

 1   विश्व के मालिक _______ में बनेंगे लेकिन बाप के ______ खजानों के मालिक अभी हो। विश्व राज्य अधिकारी भविष्य में बनेंगे लेकिन ______ अधिकारी अभी हो।

    भविष्य / सर्व / स्वराज्य

 

 2  ये तो कभी नहीं कहते हो कि ये रावण के _______ हैं। कहते हो मेरे संस्कार हैं। तो ये मेरा शब्द - यही पुरूषार्थ में ______ करता है।

      संस्कार / ढीला

 

 3  तो राज्य है अशुद्ध का और अशुद्ध ______ अपने पास सम्भाल कर रख दी है। जैसे सोना या हीरा ________ के रखा हो। इसलिए अशुद्ध और शुद्ध दोनों की _______ चलती रहती है तो बार-बार ब्राह्मण से क्षत्रिय बन जाते हैं।

      चीज़ / सम्भाल / युद्ध

 

 4   जो बाप का संस्कार है, विशेष है ही विश्व ________, शुभ ________। सबके शुभ भावना, शुभ कामनाधारी। ये हैं ओरिजनल मेरे संस्कार।

      कल्याणकारी / चिन्तनधारी

 

 5  यही अशुद्धि जो अन्दर _______ हुई है ना, वो सम्पूर्ण ________ बनने में विघ्न डालती है। तो जो बनना चाहते हो, लक्ष्य रखते हो लेकिन प्रैक्टिकल में फर्क पड़ जाता है।

      छिपी / शुद्ध

 

सही गलत वाक्यो को चिन्हित करे:-】【

 

 1  :- जो सच्चे सेवाधारी हैं उनके मुख से बार-बार क्या निकलता है? बाबा ने ये कहा, बाबा ये कहते हैं।

 

 2  :- दो प्रकार से बाबा शब्द कहने वाले हैं। एक है जुबान से बाबा कहने वाले और दूसरे हैं नॉलेज के दिमाग से कहने वाले।

  दो प्रकार से बाबा शब्द कहने वाले हैं। एक है दिल से बाबा कहने वाले और दूसरे हैं नॉलेज के दिमाग से कहने वाले।

 

 3  :- कहते हो राजा हैं लेकिन राजा का अर्थ है जिसमें कंट्रोलिंग पॉवर हो।

  कहते हो राजा हैं लेकिन राजा का अर्थ है जिसमें रूलिंग पॉवर हो।

 

 4  :- मन का मालिकपन - ये सदा हो तब कहेंगे कि स्वराज्य अधिकारी। नहीं तो कभी अधिकारी, कभी अधीन।

 

 5   :-  लोग तो रावण को मारने के बाद जलाते हैं, जलाने के बाद जो भी कुछ बचता है वो भी पानी में डाल देते हैं, और आपने मेरा बनाकर रख दिया है!